श्री गौर आरती
(किब) जय जय गोराचाँदेर आरतिक शोभा |
          जाह्नवी तट वने जगमन लोभा ||
||
दक्षिणे निताईचाँद बामे गदाधर |
          निकटे अद्वैत श्रीवास छत्रधर ||
||
बसियाछे गौराचाँदेर रत्न-सिंहासने |
          आरति करेन ब्रह्मा-आदि देवगणे ||
||
नरहरि आदि कोरि चामर ढुलाय |
          सञ्जय मुकुंद वासुघोष आदि गाय ||
||
शंख बाजे घण्टा बाजे, बाजे करताल |
          मधुर मृदंग बाजे परम रसाल ||
||
शंख बाजे घंटा बाजे, मधुर मधुर मधुर बाजे |
          निताई गौर हरिबोल हरिबोल हरिबोल हरिबोल ||
||
बहु कोटि चन्द्र जिनि वदन उज्जवल |
          गलदेशे वनमाला करे झलमल ||
||
शिव-शुक नारद प्रेमे गद्‌गद् |
          भकति-विनोद देखे गौरार सम्पद ||
||

Visit Count#
756710